Friday, September 6, 2013

अब चाँद दिखाये न बने

नूर ऐसा कि ये जज्बात छिपाये न बने
आग उल्फ़त की है दामन को बचाये न बने

इस कदर भींत उठी गर्व की रफ्ता रफ्ता 
अब तो ये हाल कि दीवार गिराये न बने

फेरकर बैठ गए पीठ ख़ुशी रूठ गयी
क्या बने बात जहाँ बात बनाये न बने

तोड़ डाले हैं अगर बाँध नदी ने दुःख में
प्रश्न फिर उसकी बगावत पे उठाये न बने

आज इस दौर में जज्बात कहाँ ढूंढें हम 
इश्तिहारों से पता लाख लगाये न बने

खो गए शख्स कई उम्र बिता यूँ कहकर
बेरुखी सिर तो नई नस्ल की चढ़ाये न बने

तिफ़्ल समझो न खुदाया कि उड़ाने हैं गज़ब
सिर्फ पानी में ही अब चाँद दिखाये न बने                                            

राख के ढेर छुपी हो कोई चिंगारी भी
उफ़ हवा दे न सके और बुझाये न बने

देहरी आज नया दीप जलाकर रख दो
काँपती लौ के चिरागों को जलाए न बने

 


( तिफ़्ल =बच्चा )
("क्या बने बात जहाँ बात बनाये न बने" तरही मिसरा-मिर्ज़ा ग़ालिब साहब की ग़ज़ल से )


19 comments:

  1. उम्दा गजल
    खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. क्या बने बात जहाँ बात बनाए न बने......
    वाह वाह...

    बहुत बढ़िया ग़ज़ल....

    अनु

    ReplyDelete
  3. वाह ...हर बात वज़नदार ढंग से कही

    ReplyDelete
  4. वाह लाजवाब गजल..

    ReplyDelete
  5. बहुत तारीफ़ करने को दिल चाहे पर
    शब्दों से उतनी तारीफ़ कराये न बने..

    ReplyDelete
  6. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (08-09-2013) के चर्चा मंच -1362 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार-8/09/2013 को
    समाज सुधार कैसे हो? ..... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः14 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    ReplyDelete
  8. खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. भई वाह ...
    आनंद आया , गज़ब की रचना !!
    बधाई !

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर गज़ल

    ReplyDelete
  11. बहुत ही लाजवाब रही ये तरही गज़ल ...
    हर शेर उम्दा है ...

    ReplyDelete
  12. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत गज़ल...

    ReplyDelete
  14. waah bhai lajavaab prastuti .....kalam ki takat hi kuchh aisee hoti hai ...

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन ग़ज़ल..ढेर सारी बधाईयों ..सादर

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन ग़ज़ल..ढेर सारी बधाईयों ..सादर

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं