Saturday, December 6, 2014

कुछ अजब तौर की कहानी थी

ख़्वाब सहलाती इक कहानी थी
रात सिरहाने मेरी नानी थी


रंज ही था न शादमानी थी
"कुछ अजब तौर की कहानी थी"

वो जो दिखती हैं रेत पर लहरें
वो कभी दरिया की रवानी थी

था जुदा फलसफा तेरा शायद
मुख्तलिफ़ मेरी तर्जुमानी थी

ये बची राख ये धुआं पूछे
जीस्त क्या सिर्फ राएगानी थी

कट गया नीम नीड़ भी उजड़े
भींत आँगन में जो उठानी थी

अब गुमाँ टूटा आखिरी दम पर
चिड़िया तो सच ही बेमकानी थी


तरही मिसरा . "कुछ अजब तौर की कहानी थी"....आदरणीय मीर तकी मीर साहब के क़लाम से

11 comments:

  1. ख्वाब सहलाती इक कहानी थी
    रात सिरहाने मेरी नानी थी
    था जुदा फलसफा तेरा शायद
    मुख्तलिफ़ मेरी तर्जुमानी थी

    वाह, बहुत ख़ूब....

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (08-12-2014) को "FDI की जरुरत भारत को नही है" (चर्चा-1821) पर भी होगी।
    --
    सभी पाठकों को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर ग़ज़ल बनी है.

    ReplyDelete
  4. था जुदा फलसफा तेरा शायद
    मुख्तलिफ़ मेरी तर्जुमानी थी ..
    वाह लाजवाब शेर इस ग़ज़ल का ... और गिरह भी कमाल की लगाईं है आपने ...

    ReplyDelete
  5. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete
  6. कमाल की पंक्तियाँ हैं ..... बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. मीर तकी मीर साहब की सुन्दर रचना प्रस्तुति हेतु धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना मीर साहब की नहीं है बस एक पंक्ति "कुछ अजब तौर ...." उनकी है उसे आधार बना कर मेरे द्वारा ग़ज़ल लिखी गयी है इसे तरही ग़ज़ल कहते हैं

      Delete
  8. ये बची राख ये धुआं पूछे
    जीस्त क्या सिर्फ राएगानी थी

    ख़ूबसूरत ग़ज़ल, सुंदर अंदाज़ !

    ReplyDelete
  9. . बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं