Thursday, March 6, 2014

हर नए गम से ख़ुशी होने लगी

चोट जब संजीवनी होने लगी
जिंदगी बहती नदी होने लगी

त्याग कर फिर धारती नवपत्र है
फाग सुरभित मंजरी होने लगी

पल थमा कब ठौर किसके लो चला
रिक्त मेरी अंजली होने लगी

साजिश-ए-बाज़ार है अब चेतिए
तितलियों में बतकही होने लगी

मैं मसीहा तो नहीं हूँ जो कहूँ
"हर नए गम से ख़ुशी होने लगी"

डूबता सूरज भी पूछे अब किसे
शिष्टता क्यूँ मौसमी होने लगी

मन बिंधा घायल हुआ तो क्या हुआ
बाँस थी मैं बाँसुरी होने लगी



 तरही मिसरा मशहूर शायर जनाब सागर होशियारपुरी साहब की ग़ज़ल से 

"हर नए गम से ख़ुशी होने लगी"

16 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 08 मार्च 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. चोट जब संजीवनी होने लगी
    जिंदगी बहती नदी होने लगी

    क्या बात .... बहुत उम्दा लिखा है ....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 08/03/2014 को "जादू है आवाज में":चर्चा मंच :चर्चा अंक :1545 पर.

    ReplyDelete
  4. चोट जब संजीवनी होने लगी
    जिंदगी बहती नदी होने लगी...

    वाह ! बहुत ही सुंदर सृजन...!

    RECENT POST - पुरानी होली.

    ReplyDelete
  5. समय के साथ संवाद करती आपकी यह प्रस्तुित काफी सराहनीय है। मेरे नए पोस्ट DREAMS ALSO HAVE LIFE पर आपके सुझावों की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  6. क्या नहीँ ये पंक्तियाँ कुछ बोलती हैँ?
    भेद मन के रोज तो ये
    खोलती हैँ.......बहुत सुंदर कविता..अभार।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत गज़ल.....!! हर शेर लाजवाब... बहुत बहुत बधाई..!

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ... इस लाजवाब गज़ल के सभी शेर कमाल के हैं ...

    ReplyDelete
  9. मन बिंधा घायल हुआ तो क्या हुआ
    बाँस थी मैं बाँसुरी होने लगी
    ...वाह..बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  10. अहा! बांसुरी की कितनी मधुर तान है .. सुन्दर लिखा है..

    ReplyDelete
  11. जिंदगी बहती नदी होने लगी.….

    बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति , बधाई !!

    ReplyDelete
  12. बहुत गहन और बहुत सुंदर लिखा है ...एक एक शब्द हृदयस्पर्शी ....

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब, क्या बात है...

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं