Saturday, August 24, 2013

इक दर्पण रहे तो ...!!

संबंधों के बीच  

इक दर्पण रहे तो कैसा हो

जो तोड़ता हो दर्प को

बस

ऐसा हो  

करें कभी हम शिकायत
 
हमें चेहरा दिखा दें

रिश्तों की आजमाइश में

पलटकर मुँह चिढ़ा दें

और जो टूटे कभी तो

उसकी किरचियाँ

मेरे कद पर

मेरे किरदार पर

बढ़ चढ़ के बोलें

चाहे कुछ भी हो जाये

मगर बस सच ही तोले 


13 comments:

  1. सच....रिश्ता पारदर्शी हो तो निभेगा ही....

    सुन्दर भाव..

    अनु

    ReplyDelete
  2. आपके विचारो से सहमत हूँ
    अगर ऐसा हो जाये तो
    खुशियां ही खुशियां हो
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. वाह .... बहुत ही सुंदर बात कही

    ReplyDelete
  4. फिर तो जीने का मजा ही कुछ और हो जाएगा..

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बढ़िया तरीके से जीवन में आईने के महत्व को प्रदर्शित किया है ..वाकई कोई ऐना जरुर चाहिए जिन्दगी में

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव..

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत अभिवयक्ति..

    ReplyDelete
  9. वाह !!! बहुत ही सुंदर भाव लिए रचना,,,

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  10. हमारा अंतर्मन ही सबसे सच्चा दर्पण होता है
    सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  11. बहुत खूबसूरत सोच...

    ReplyDelete
  12. रिश्तों का सच सामने आ जाए ... काश ऐसा हो जाए ... गहरा एहसास लिए ...

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं