Saturday, August 10, 2013

नीम निमोली गदराई

 पाती सावन की आवन सुन
नीम निमोली गदराई



थिरक रहे मन मोर कहीं
कहीं झूमे प्रेम हिंडोले

रोमांच हुआ धरती आँगन
भीगे कंठ पपीहे बोले

मेहँदी राचे हाथ सखी
झूलों ने पेंग बढाई

हो रहे हवा के चपल पंख
मुख कोयल के रसधार बहे
चांदी के घुंघरु बांधे दूब
बिजुरी के हाथों साज सजे

मल्हार राग गूंजे सितार
 हर शाख नाच इतराई 


21 comments:

  1. वाह.....

    सावन का सुख.......
    बहुत सुन्दर!!!

    अनु

    ReplyDelete
  2. सावन का बहुत सुंदर मनोहारी वर्णन ...
    बहुत ही सुंदर ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर.......

    ReplyDelete
  4. नीम तो खिली हुई ही हर जगह ... सावन की फुहार भी है ऐसे में मल्हार तो प्राकृति ने छेड राखी है ... और मनभावन शब्द आपने ...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुंदर उम्दा पोस्ट ,,,

    RECENT POST : जिन्दगी.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज सोमवार (12-08-2013) को गुज़ारिश हरियाली तीज की : चर्चा मंच 1335....में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  7. सुंदर, बहुत सुंदर चित्रण .....

    ReplyDelete
  8. क्या बात क्या बात

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर मनभावन प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  10. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  11. बचपन की याद ताजा हो आई।
    सुन्दर एवं भावपूर्ण रचना।
    कुछ हरे-भरे आम के बगीचों पर भी रचिए..

    ReplyDelete
  12. सुन्दर अहसास लिए सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  13. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आप को आमंत्रित किया जाता है। कृपया पधारें आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुंदर ...
    सावन का बहुत ही सुंदर मनोहारी वर्णन ...

    ReplyDelete
  15. हल्की-हल्की बूंदों के एहसास जैसी
    कोमल सुखदायी रचना

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं