Thursday, October 20, 2011

औरत


औरत नहीं कठपुतली

अनगिन हाथों में डोरी

रंगमंच पर घूमती फिरकी

सब चाहते उसमें

अपना किरदार

हाथों में सपनों की डोरी

फंदे दर फंदे बुनती

यूँ ही छूट जाता है कभी

हाथ रह जाता

केवल शुरुआती तार

जीवन एक तनी रस्सी

पग पग संभलती चलती

कब काट जाती है

कोई तेज धार सी

चुपके से उसके बांस के आधार

पीड़ा कण कण बिखरती

आशा फिर क्षण क्षण पलती

सुना ही नहीं पाती कभी

नेपथ्य में बजता

मन का सितार

चाहती मुस्कुराहटों से भरी

अल्पना से सजी धरती

आसमां में प्रीत रंग भरती

हे देव ! मिले

विश्वास को विस्तार ........

15 comments:

  1. सभी क्षणिकाएँ बहुत गहन भाव लिए है..सुन्दर प्रस्तुति....बधाई...

    ReplyDelete
  2. सभी क्षणिकाएँ अच्छी लगीं ...

    हाथ रह जाता शुरूआती तार ... सटीक कहा है ..

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भावमयी क्षणिकायें।

    ReplyDelete
  4. जीवन एक तनी रस्सी

    पग पग संभलती चलती

    कब काट जाती है

    कोई तेज धार सी

    चुपके से उसके बांस के आधार

    बहुत सुन्दर लगी ये पंक्तियाँ|

    ReplyDelete
  5. भावपूर्ण क्षणिकायें!

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  7. गहरी अभिव्यक्ति ...
    सुन्दर क्षणिकाएँ ..

    ReplyDelete
  8. भावपूर्ण संवेदनशील सृजन .... शुक्रिया जी /

    ReplyDelete
  9. bahut gahri baat kah di aapne kam shabdon me....

    ReplyDelete
  10. एक स्त्री कि बात बहुत हि मार्मिक तरीके से !
    दीवाली कि शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. नारी मन की व्यथा को रेखांकित करती भावपूर्ण कविताएं।

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  13. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं |
    आप के लिए "दिवाली मुबारक" का एक सन्देश अलग तरीके से "टिप्स हिंदी में" ब्लॉग पर तिथि 26 अक्टूबर 2011 को सुबह के ठीक 8.00 बजे प्रकट होगा | इस पेज का टाइटल "आप सब को "टिप्स हिंदी में ब्लॉग की तरफ दीवाली के पावन अवसर पर शुभकामनाएं" होगा पर अपना सन्देश पाने के लिए आप के लिए एक बटन दिखाई देगा | आप उस बटन पर कलिक करेंगे तो आपके लिए सन्देश उभरेगा | आपसे गुजारिश है कि आप इस बधाई सन्देश को प्राप्त करने के लिए मेरे ब्लॉग पर जरूर दर्शन दें |
    धन्यवाद |
    विनीत नागपाल

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं