Sunday, September 18, 2011

ग़ज़ल (आओ हवा की खामोशियाँ ....)

आओ हवाओं की खामोशियाँ सुनें हम,
पत्तों की मानिंद नेह नदी में बहें हम ।



बदलते मौसम की कहानी है जिन्दगी,
खट्टे मीठे धागों से ऋतुराज बुने हम ।

गिनती की साँसें लेकर जीते हैं सभी,
गुमनाम ही सही अफसाना अलग बनें हम ।

बहुत दिनों से है बंद कपाट उस घर का,
दस्तक दे खुलवायें मन आवाज सुने हम ।

महक सौंधी सी कैद पुरानी चिट्ठी में,
रिश्ते फिर बनाए फिर से खतूत लिखें हम ।



23 comments:

  1. वाह …………बहुत ही मनमोहक गज़ल्।

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन गजल!
    -------
    कल 19/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. भावों की प्रभावी अभिव्यक्ति .......

    ReplyDelete
  4. आओ हवाओं की खामोशियाँ सुनें हम,
    पत्तों की मानिंद नेह नदी में बहें हम ।
    ....phir aapsi ankahe mein bheeg uthe hum

    ReplyDelete
  5. उम्दा और लाजबाब ..

    ReplyDelete
  6. प्यारी- प्यारी बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  7. बहुत प्यारी गज़ल ..खूबसूरत भाव लिए हुए

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    ReplyDelete
  9. कोमल और रुपहले भावों से बुनी शब्दों की एक चादर.

    ReplyDelete
  10. very nice keep it up.

    ReplyDelete
  11. बहुत दिनों से है बंद कपाट उस घर का,
    दस्तक दे खुलवायें मन आवाज सुने हम
    यह है असली शेर बहुत खूब मुबारक हो

    ReplyDelete
  12. गिनती की साँसें लेकर जीते हैं सभी,
    गुमनाम ही सही अफसाना अलग बनें हम ।

    उम्दा भावों से सजी बढि़या ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  13. सुन्दर भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं