Sunday, June 20, 2010

ग़ज़ल ( काश मुखर होती ...)

काश मुखर होती इतनी मेरी पीर
बिन बोले भी जुबां कहलाती कबीर

मर जाने के बाद बनती थी मज़ार
लाशों पर होती अब महलों की ताबीर

सूरज भी अब तो रहा नहीं बेदाग़
जब अंधियारे बन बैठे हैं वजीर

जाए मंदिर में पूजा या ठोकर खाए
हर पत्थर की होती अपनी ही तकदीर

बगुला भगतों के बीच होना है चुनाव
लोकतंत्र का मतलब अँधेरे का तीर

गुरूर जिनको कि हमारा जिंदा है ज़मीर
स्वाभिमान की चौखट ताउम्र रहें फकीर

3 comments:

  1. मेरि तरफ से मुबारकबादी क़ुबूल किजिये.

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं