Thursday, November 20, 2014

बंधन

(1)

छटपटाकर निकली
घूंघट
और
बुर्केनुमा
कोकून से बाहर
अब खुश हैं
हाथों पर दस्ताने
और चेहरे पर
स्कार्फ लपेटे
तितलियाँ

(2)

उन्हें भी
कहाँ सुकून देते हैं
ये तराशे हुए बगीचे
फिर-फिर 
बुलाते हैं
बेतरतीब फैले जंगल
जंगल पर खुला आसमान
लेकिन लौटकर दुबक रहीं हैं
चिड़ियाएँ
बाज के पैंतरे देखकर



चित्र गूगल से साभार 

11 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 22 नवम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर क्षणिकाएं.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (22-11-2014) को "अभिलाषा-कपड़ा माँगने शायद चला आयेगा" (चर्चा मंच 1805) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत एहसास कराती क्षणिकाएं |

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर अर्थपूर्ण क्षणिकाएं !
    आईना !

    ReplyDelete
  6. तितलियों से जुड़े कई मासूम अहसास पुनः ताजा हो गये। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अर्थपूर्ण हैं दोनों क्षणिकाएं ... गहरा अर्थ लिए ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर , विचारपूर्ण भाव हैं

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत पंक्तियाँ, अर्थपूर्ण क्षणिकाएं...बधाई

    ReplyDelete
  10. वाह....!
    भावना की सीपी में
    शब्दों के मोती
    चमक रहे हों, जैसे !

    ReplyDelete
  11. बहुत ही खूबसूरत .....

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं