Thursday, July 11, 2013

गर जुम्बिश थोड़ी सी है....


14 comments:

  1. khoobshurat prastuti,"khwabon ki murat ho, khayalon ki surat ho,

    ReplyDelete
  2. वाह वंदना जी....
    बेहतरीन ग़ज़ल......
    उम्दा शेरों से सजी.

    अनु

    ReplyDelete
  3. सार्गभित, प्रशंसनिये.
    बेहतरीन रचना, आभार

    ReplyDelete
  4. सार्गभित सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर भावपूर्ण गजल ,बधाई वन्दना जी,,,

    RECENT POST ....: नीयत बदल गई.

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन और अदभुत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  7. खूब..... बहुत सुंदर पंक्तियाँ ....

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ... नए अंदाज़ के शेर हैं सभी ... लाजवाब ..

    ReplyDelete
  9. नयी अनुभूतियों का बहुत सुंदर प्रयोग
    बेहतरीन शिल्प
    उत्कृष्ट रचना
    बधाई

    ReplyDelete
  10. रे! रीढ़ की भी अपनी इक अलहद कीमत तो है

    वाह!!!

    ReplyDelete
  11. सभी शेर बहुत उम्दा, बहुत खूब, बधाई.

    ReplyDelete
  12. बहुत बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  13. सुभानअल्लाह..

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं