Friday, November 16, 2012

इक पल कुंदन कर देना



तम हरने को एक दीप
तुम मेरे घर भी लाना
मृदुल ज्योति मंजु मनोहर
उर धीरे से धर जाना

सिद्ध समस्या हो जाये
साँस तपस्या बन जाए
ऐसे जीवन जुगनू को
सुन साधक तप दे जाना

रूप वर्तिका मैं पाऊं
स्नेह समिधा हो जाऊं
तार तार की ऐंठन से
यूँ मुक्त मुझे कर जाना

तुच्छ हीन मैं अणिमामय
क्षणजीवी पर गरिमामय
भस्म भले परिनिर्णय हो
इक पल कुंदन कर देना 



चित्र गूगल से साभार 

18 comments:

  1. वाह....
    बहुत सुन्दर रचना..

    अनु

    ReplyDelete
  2. वाह ... बहुत सुंदर भावों से सजी रचना .... आनंद आ गया पढ़ कर

    ReplyDelete
  3. अत्यधिक सुंदर ...मनोहारी ,उतकृष्ट ...संग्रहणीय रचना ....बार बार पढ़ने गुनने योग्य ....
    बहुत बधाई इस पावन रचना के लिए ....वंदनजी ....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete


  5. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~*~ஜ●दीपावली की रामराम!●ஜ~*~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**●राजेन्द्र स्वर्णकार●**♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  6. वाह ... अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने
    इस अभिव्‍यक्ति में

    ReplyDelete
  7. सुन्दर भावों को समेटे बेहतरीन कविता.

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete
  9. बहुत ही प्यारा गीत बधाई वंदना जी |गुफ्तगू का पता सम्पर्क न० के साथ समीक्षा के नीचे दिया गया है |आप मेरे न० पर अपना पता भेज दीजिये हम आपको स्वयं भेज देंगे 09005912929

    ReplyDelete
  10. नूतन भाव-पुंजों से दमकती कविता।
    शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  12. शशक्त रचना है ... बहुत ही प्रभावी ...

    ReplyDelete
  13. अति सुन्दर लिखा है..

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं