Monday, June 6, 2011

गज़ल(मुहब्बत या कि अदावत)

मुहब्बत या कि अदावत ये क्या चाहता है

खबर है मेरा रकीब मुझसा होना चाहता है


लगाकर बाहर से सांकल इक रोज चला गया था

पुकारता है मुसल्सल वो आना चाहता है


धरती से अब तो चाँद सितारे हैं आगे मंजिल

आदमीयत से मगर इंसा भागना चाहता है


हूँ मैं गुनाहगार तेरे निशाने पर भी मैं हूँ

क्यूंकर तू रस्में दोस्ती की निभाना चाहता है


एहसान यूँ जताए है एक आवारा बादल

सूखा मन रीती गागर से भिगोना चाहता है

4 comments:

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं