Thursday, June 23, 2011

असीम तुम

असीम तुम आकाश
पाखी बन मैं उडूं

विशाल तुम समंदर
अंक की सीप बनूँ

सलोना वह सपना
देखूं मैं नींद लूं

गंध इक मनभावन
सुवासित करे मानस

सुबह की मीठी धूप
हथेली में भर लूं

असीम तुम आकाश
पाखी बन मैं उडूं

13 comments:

  1. subah kee mithi dhoop ke ehsaas se bharee hatheliya achhi lagin

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अहसासो से लबरेज़ कविता।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  4. सुंदर सीधी सरल रचना. पढ़ कर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  5. अहा, क्या बात है.
    बढ़िया कविता.

    ReplyDelete
  6. very nice mere blog me aane ke liye sukriya kripya aate rahiye yaha se aaye

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना। क्या कहने.

    ReplyDelete
  8. Saral shabdon ka saral sanyojan. Sundar kavita ke liye Badhaisundar

    ReplyDelete
  9. कोमल भाव की राग -अनुराग जगाती मुग्धा भाव की रचना .

    ReplyDelete
  10. अहसासों का बहुत अच्छा संयोजन है ॰॰॰॰॰॰ दिल को छूती हैं पंक्तियां ॰॰॰॰ आपकी रचना की तारीफ को शब्दों के धागों में पिरोना मेरे लिये संभव नहीं

    ReplyDelete
  11. .... भविष्य में भी पढना चाहूँगा सो आपका फालोवर बन रहा हूँ ! शुभकामनायें

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं