Friday, October 11, 2013

परंपरा और परिवार

स्वस्थ परम्पराएं
तराशती हैं
परिवार
ठीक वैसे  ही
जैसे बेतरतीब
किसी जंगल को
सांचे में ढालकर
दिया जाता है
रूप सुन्दर बगीचे का
परम्पराएं
होती हैं पोषित
देश और काल के
अनुशासन में
समष्टि के चिन्तन से
बांधती हैं
मर्यादित किनारे स्वच्छंद नद नालों के
बचा ले जाती है
क्षीण होने से
किसी धारा को
तभी तो
शिव कही जाती हैं
परम्पराएं  !!!

17 comments:

  1. अक्षरशः सत्य. हर युग में उन अनुशासन निर्माण करने वालों पर बहुत निर्भर करता है कि क्या दिशा दे के जाते हैं. नहीं तो अफगानिस्तान में पालन किये जाने वाले कुछ अमानवीय नियमों के तरह की विकृतियाँ आ जाती हैं समाज में.

    ReplyDelete
  2. सधे शब्दों में प्रस्तुत सुंदर विचार

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर लेखन |

    ReplyDelete
  4. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (13-10-2013) के चर्चामंच - 1397 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति...!
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...!

    RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - रविवार - 13/10/2013 को किसानी को बलिदान करने की एक शासकीय साजिश.... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः34 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर। हर परिवार एक परम्परा से पोषित है उसी का आगे संवर्धन करता चलता है। परम्परा ही पहचान है। आई डी है।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    और हमारी तरफ से दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें

    How to remove auto "Read more" option from new blog template

    ReplyDelete
  9. सच कहा आपने

    आपको सपरिवार विजय दशमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  10. सर्वप्रथम तो आपको दशहरे की हार्दिक शुभकामनायें ..एक सुंदर सन्देश को समाहित किये शानदार रचना के लिए हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : रावण जलता नहीं
    नई पोस्ट : प्रिय प्रवासी बिसरा गया
    विजयादशमी की शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete
  13. अप्रतिम..माँ के विशेष कृपा सदा बनी रहे..

    ReplyDelete
  14. परम्पराओं में पहचान छुपी होती है ... समाज की इन्सान की ... जरूरी है इन्हें जीवित रखना ...

    ReplyDelete
  15. परम्पराएं अतीत के आर्इने हैं, वर्तमान के पाथेय हैं और भविष्य के निर्देशक हैं।

    प्रभावी रचना।

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं