Sunday, June 24, 2012

दिन मनचीते


सावन सिंचित फागुन भीगे
कब दिन आयेंगे मनचीते 

मन मृगतृष्णा हुई बावरी
पनघट ताल सरोवर रीते

धेनु वेणु बिन हे सांवरिया
कहो राधिका किस पर रीझे


मन के गहरे पहुंचे कैसे
ऊंची इन गलियन दहलीजें

प्रेम पले पीपल की छैंया
कोई ऐसा बिरवा सींचे


22 comments:

  1. अति सुंदर ....मन की आकांक्षाओं का सरल, प्रेमपगा चित्रण.....

    ReplyDelete
  2. सुन्दर...
    अति सुन्दर वंदना जी....

    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर रचना लगी, वंदना जी,,,,

    RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: आश्वासन,,,,,

    ReplyDelete
  4. एह्सांसों को स्वर देती रचना

    ReplyDelete
  5. सुन्दर मनमोहक रचना..

    ReplyDelete
  6. सुन्दर मनोहारी रचना...
    सादर.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर मनमोहक रचना...वंदना जी..

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर रचना.. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. मन मृगतृष्णा हुई बावरी
    पनघट ताल तलैया रीते

    सुंदर-मोहक गीत।

    ReplyDelete
  10. वाह! कमाल की प्रस्तुति है,वंदना जी.
    मेरे ब्लॉग पर आपके आने का आभारी हूँ मैं.

    ReplyDelete
  11. bahut sundar prastuti-
    prem pale peepal kii chhaiyaan
    koee esaa birvaa seenche.

    yeh panktiya man ko chhu gaeen.badhai.

    ReplyDelete
  12. काफी सुंदर एवं मनमोहक रचना वंदना जी !
    बधाई !
    साभार !!

    ReplyDelete
  13. जब तक मैं इस लाजवाब रचना तक पहुंचा ... बरखा रानी तो आ ही गयी ... लाजवाब रचना है ...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर .....
    आप की कलम की ये अलग सी छवि अपनी अलग पहचान बनाती है ....

    ReplyDelete
  15. वाह ... बहुत ही बढिया।

    ReplyDelete
  16. सुन्दर कृति मन के गहरे पहुँचे ऐसे
    प्रेम का बिरवा अभी कोई सींचे जैसे ...
    वन्दना जी , बहुत सुन्दर लिखती हैं आप..

    ReplyDelete
  17. प्रेम पले पीपल की छैंया
    कोई ऐसा बिरबा सींचे
    गोद कृष्ण की सिरहाना हो
    पड़े रहें बस आँखें मीचे....

    कोमल रेशमी भावों में प्रेम पगी कविता....

    ReplyDelete
  18. bahut hi sundar likha hai ...tajjub hai pahle kyon nahin padha ...?
    khair ...der aaye durust aaye ...!!:))

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं