Monday, August 8, 2011

एकले चलो तो

तुम जो चलो तो
मैं भी चल ही दूँगी
हवा मंथर मंद सी
पुष्प संग सुगंध सी
कहीं यह पढ़ा था
दिल ने भी कहा था
एकला चलो रे
आकाश को बढ़ो रे
छू लिया गगन को
पा लिया सपन को
शून्य सा लगा था
मोती बिन बिंधा था
जब तलक चमक थी
हँसी थी खनक थी
सोचते रहे हम
परछाइयां रहेगी
पर धूप जब ढली तो
तन्हाईयाँ बची थी
एकले चलो तो
भाव संग रहे यह
अकेले चल पड़े हो
अकेले पर रहो न हों
शून्य से बढे तो
एक से जो दश हों
शत हों सहस्त्र हों
न छलना छल सकेगी
न प्रवंचना रहेगी
नेक जब चलन हों
कांटे या चमन हों
पग ये बढ़ चलेंगे
एकले चले तो हैं
मगर
ना एकले रहेंगे



16 comments:

  1. एकला चलो रे
    ..लोग खुद ही साथ हो लेंगे....सुन्दर भाव...

    ReplyDelete
  2. खूबसूरती सजाये हैं भाव ..सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. न छलना छल सकेगी
    न प्रवंचना रहेगी
    नेक जब चलन हों
    कांटे या चमन हों
    पग ये बढ़ चलेंगे
    एकले चले तो हैं
    मगर
    ना एकले रहेंगे
    aapki abhivyakti thandhi malaya si koyi sandesh padhati lag rahi hai ,jo sahajata se hridaya men samhit ho rahi hai ,..sargarbhit srijan .... shukriya ji /

    ReplyDelete
  4. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 11 - 08 - 2011 को यहाँ भी है

    नयी पुरानी हल चल में आज- समंदर इतना खारा क्यों है -

    ReplyDelete
  5. alag bhav liye bahut sundar kavita

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. नेक जब चलन हों
    कांटे या चमन हों
    पग ये बढ़ चलेंगे
    एकले चले तो हैं
    मगर
    ना एकले रहेंगे

    बहुत खूब वंदना जी।

    सादर

    ReplyDelete
  8. सुन्दर, भावपूर्ण, अनुपम प्रस्तुति.
    नयी पुरानी हलचल से आपकी पोस्ट का लिंक मिला.
    सच में आनंदित हो गया मन आपकी अभिव्यक्ति को
    पढकर.
    आभार.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.

    ReplyDelete
  9. अप्रतिम कविता वन्दना जी बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  10. अप्रतिम कविता वन्दना जी बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. इस दुर्योधन की सेना में सब शकुनी हैं ,एक भी सेना पति भीष्म पितामह नहीं हैं ,शूपर्ण -खा है ,मंद मति बालक है जिसे भावी प्रधान मंत्री बतलाया समझाया जा रहा है .एक भी कृपा -चारी नहीं हैं काले कोट वाले फरेबी हैं जिन्होनें संसद को अदालत में बदल दिया है ,तर्क और तकरार से सुलझाना चाहतें हैं ये मुद्दे .एक अरुणा राय आ गईं हैं शकुनियों के राज में ,ये "मम्मीजी" की अनुगामी हैं इसीलिए सरकारी और जन लोक पाल दोनों बिलों की खिल्ली उड़ा रहीं हैं.और हाँ इस मर्तबा पन्द्रह अगस्त से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया है सोलह अगस्त अन्नाजी ने जेहाद का बिगुल फूंक दिया है ,मुसलमान हिन्दू सब मिलकर रोजा खोल रहें हैं अन्नाजी के दुआरे ,कैसा पर्व है अपने पन का राष्ट्री एकता का ,देखते ही बनता है ,बधाई कृष्णा ,जन्म दिवस मुबारक कृष्णा .....बहुत सार्थक सौदेश्य पोस्ट वंदना जी ,सकारात्मक ऊर्जा से संसिक्त ,ऐसा ही लिखती रहिये ...न छलना छल सकेगी
    न प्रवंचना रहेगी
    नेक जब चलन हों
    कांटे या चमन हों
    पग ये बढ़ चलेंगे
    एकले चले तो हैं
    मगर
    ना एकले रहेंगे . सुन्दर भाव बोध की श्रेष्ठ रचना .... ram ram bhai

    शनिवार, २० अगस्त २०११
    कुर्सी के लिए किसी की भी बली ले सकती है सरकार ....
    स्टेंडिंग कमेटी में चारा खोर लालू और संसद में पैसा बंटवाने के आरोपी गुब्बारे नुमा चेहरे वाले अमर सिंह को लाकर सरकार ने अपनी मनसा साफ़ कर दी है ,सरकार जन लोकपाल बिल नहीं लायेगी .छल बल से बन्दूक इन दो मूढ़ -धन्य लोगों के कंधे पर रखकर गोली चलायेगी .सेंकडों हज़ारों लोगों की बलि ले सकती है यह सरकार मन मोहनिया ,सोनियावी ,अपनी कुर्सी बचाने की खातिर ,अन्ना मारे जायेंगे सब ।
    क्योंकि इन दिनों -
    "राष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,महाराष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,
    मनमोहन दिल हाथ पे रख्खो ,आपकी साँसे अन्नाजी .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    Saturday, August 20, 2011
    प्रधान मंत्री जी कह रहें हैं .....

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. सही लिखा है वंदना आपने.आपके इन विचारों का मैं उतना ही सम्मान करती हूँ जितना..........खुद अपना.हा हा हा
    ऐसे ही रस्ते जीवन में चुने पाँव ...मन दोनों लहुलुहान हो गए.मन मेरे साथ रहा.उसने सुकून पाया इसलिए ज़ख्मों को भूल गया.
    लहुलुहान पांवों ने अपने निशाँ छोड़ दिए थे उन रास्तों पर.....देखा कई चले आ रहे हैं ...जो डरते थे इन रास्तों की ओर देखने से ही क्योंकि.....मानव प्रवृति सरलता,सहजता ढूढने की जो रही है.
    और....खुश हूँ.जीवन से संतुष्ट भी.नही...नही...गलत न समझना.एक सीधीसादी औरत हूँ.यह आत्मश्लाघा भी नही...जीवन के पृष्ठ है जिन्हें खोल कर पद्धति हूँ और.....आप जैसे बच्चों को बताती हूँ दरों नही ...चलो..अकेले ही काफिले बन जायेंगे...आज नही...हमारे जाने के बाद ही सही एक पगडण्डी तो मिल जायेगी लोगों को बनी हुई. जियो और लिखा है उसे जी जाओ. प्यार

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete

आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ कि अपना बहुमूल्य समय देकर आपने मेरा मान बढाया ...सादर

Followers

कॉपी राईट

इस ब्लॉग पर प्रकाशित सभी रचनाएं स्वरचित हैं तथा प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं यथा राजस्थान पत्रिका ,मधुमती , दैनिक जागरण आदि व इ-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं . सर्वाधिकार लेखिकाधीन सुरक्षित हैं